Aazadi : मेरी फितरत तो रही है नंगे पाँव दौड़ लगाने की गाउन और हाई हील्स में मैं क्या चल पाती मुझे ऊचीं उड़ानें पसंद है मुझे तुम्हरी कैद कब भाती? --स्वाति

आज़ादी

ये करीने से उगाए हुये फूल पत्ते
कतार में खड़े सलामी देते पेड़
और मेनिक्युअर्ड लॉन
मुझे कब भाये कि तुम समझ बैठे
कि तुम मुझे पसंद आओगे
बोलो तो?

मुझे तो जंगल पसंद हैं
आज़ाद और स्वछंद
मुझे बर्फ से ढकी पहाडियाँ
रोमांचित करतीं है
वो सागर जो कभी ज्वार तो कभी भाटा
क्या वो मुझे नही बुलाता?

मेरी फितरत तो रही है
नंगे पाँव दौड़ लगाने की
गाउन और हाई हील्स में
मैं क्या चल पाती
मुझे ऊचीं उड़ानें पसंद है
मुझे तुम्हरी कैद कब भाती?

–स्वाति

Photo credit: Stephen Brace / Foter / CC BY

Aazadi (आज़ादी) is a poem written by Swati Sani, the picture used is for representation purposes only.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.