Ek Akela sher

تم آؤ خزاں کی سرد ہواؤں کی طرح
میں زرد پتوں کی طرح تم سے لپٹتی جاؤں
-سواتی ثانی ریشم

तुम आओ खिजाँ की सर्द हवाओं की तरह
मैं ज़र्द पत्तों की तरह तुम से लिपटती जाऊँ
– स्वाति सानी ‘रेशम’

 

दोस्त (دوست)

 

कोई गर पूछे
की कौन थी वो
तो तुम सिर्फ़ अहिस्ता
से मुस्कुरा देना
कहना कुछ नहीं

ज़रा सी बात है
मिलना था तुमसे
वक़्त बिताना था साथ
कुछ बातें करनी थीं
कुछ ख़ास नहीं

यूँ तो कट जाते हैं
मसरूफ़ियत में दिन
मगर कुछ है जो
अधूरा सा लगता है
क्या तुम्हें भी?

याद है एक रोज़ जब
बैठ के छत पे
ढेरों बातें की थी
और लफ़्ज़ एक भी
ना फूटा था ज़बां से

उन्ही सब बातों को
फिर दोहराना है
ख़ामोशियों को
नग़मों में बँधना है
तुम मिलने आओगे?

उसी छत पे
जहाँ शाम ढले
दोनो वक़्त
मिला करते हैं
पल भर को

पर तुम आ ना भी सको
तो कोई बात नहीं
आज नहीं तो
कभी और सही
या ना ही सही

मगर, कौन है वो
लोग पूछेंगे ज़रूर तुमसे
तो तुम बस ये कहना
दोस्त है एक
कच्ची पक्की सी

– स्वाति सानी “रेशम”

کوئی گر پوچھے
کہ کون تھی وہ
توتم صرف  آہستہ
سے مسکرا دینا
کہنا کچھ نہیں

زرا سی بات ہے
ملنا تھا تم سے
وقت بتانا تھا ساتھ
کچھ باتیں کرنی تھیں
کچھ خاص نہیں

یوں تہ کٹ جاتے ہیں
مصروفیت میں دن
مگرکچھ ہے جو
ادھورا سا لگتا ہے
کیا تمہیں بھی؟

یاد ہے ایک روز جب
بیٹھ کہ چھت پے
دھیروں باتیں کی تھیں
اور لفظ ایک بھی
نہ پھوٹا تھا زباں سے

ینھیں سب باتوں کو
پھر دہرانا ہے
خاموشوں کو
نغموں میں باندھنا ہے
تم ملنے اوؐ گے؟

اسی چھت پے
جہاں شام ڈھلے
دونوں وقت
ملا کرتے ہیں
پل بھر کو

پر تم ٓ ن بھی سکو
تو کوئی بات نہیں
آج نہیں تو
کبھی اور سہی
یہ نہ ہی سہی

مگر، کون ہے وہ
لوگ پوچھیں گے زرور
تو تم بس یہ کہنا
دوست ہے ایک
کچی پکی سی

– سواتی ثانی ریشم

 

Photo Credits: Foter.com

आज़ादी

ये करीने से उगाए हुये फूल पत्ते
कतार में खड़े सलामी देते पेड़
और मेनिक्युअर्ड लॉन
मुझे कब भाये कि तुम समझ बैठे
कि तुम मुझे पसंद आओगे
बोलो तो?

मुझे तो जंगल पसंद हैं
आज़ाद और स्वछंद
मुझे बर्फ से ढकी पहाडियाँ
रोमांचित करतीं है
वो सागर जो कभी ज्वार तो कभी भाटा
क्या वो मुझे नही बुलाता?

मेरी फितरत तो रही है
नंगे पाँव दौड़ लगाने की
गाउन और हाई हील्स में
मैं क्या चल पाती
मुझे ऊचीं उड़ानें पसंद है
मुझे तुम्हरी कैद कब भाती?

–स्वाति

Photo credit: Stephen Brace / Foter / CC BY

Aazadi (आज़ादी) is a poem written by Swati Sani, the picture used is for representation purposes only.

व्यथा कथा

hina
हथेली की हिना सूख जायेगी
मगर उसकी छाया
हाथों पर उभर आयेगी
हथेली लाल हो जायेगी

हिना की ठंड़क और स्पर्श की गर्मी
अहसास दिलायेगी उस तारे का
जिसे एक दिन तुमने
मेरी हथेली का फूल कहा था

तुम्हें याद है वो दिन?
जब ऊँची पहाड़ी पर चढ़ते चढ़ते
पाँव फिसला था,
और हौसला टूटा था
तब तुमने उस तारे से तुलना की थी मेरी

कहा था
स्वाति को भी चातक का
इंतज़ार करना पड़ता है
तीन मौसम

मगर चातक,
स्वाति की एक बूंद के लिये
तुम्हें भी तो तीन मौसम
प्यास सहनी पड़ती है।

क्या कहिये मुझे क्या याद आया

मजरूह की यह नज़म मुझे बेहद पसंद है। एक मीठा सा भोलापन और भीनी-भीनी खुशबू है इसमें जो मेरे अंदर बस गयी है इसे पढ़ने के बाद।

फिर शाम का आँचल लहराया

मग़रिब में वो तारा एक चमका,
फिर शाम का परचम लहराया
शबनम सा वो मोती इक टपका,
फ़ितरत ने आँचल फैलाया
नज़रें बहकी, दिल बहला,
क्या कहिये मुझे क्या याद आया
टीले की तरफ चरवाहे की,
बंसी की सदा हल्की हल्की
है शाम की देवी की चुनरी,
शानों से परी ढ़लकी ढ़लकी
रह रह के धड़कते सीने में,
अहसास की मय छलकी छलकी
इस बात ने कितना तड़पाया,
क्या कहिये मुझे क्या याद आया

— मजरूह सुल्तानपुरी

अकेली पंक्तियाँ

एक अकेला कोना
भी नहीं मिलता
इस बड़े से घर में
जहाँ जा कर मैं
कुछ मन हलका करूँ
नमकीन आसुँओ से
अपनी बात कहूँ
और खुद से ही
शिकायत कर पाऊँ…

ये घर
मेरा ही तो है
जो खुशियों से
इतना भरा है
कि दुख अपने आप को
अक्सर अकेला पाता है
गले तक आ कर
फिर निग़ल लिया
जाता है।

होली का चाँद

आज शाम मैंने जो देखा छैल छबीला चाँद
तुमने भी तो देखा होगा इस होली का चाँद

झाँक झाँक कर ताक ताक कर बुला रहा वो
मुझको क्यों कर सता रहा  चमकीला चाँद

रंग लगा के लाल गुलाबी आया था छत पर
नील गगन में रहने वाला वही नशीला चाँद

बुला रहा था पिछवाडे से चुपके चुपके
था वो मेरा दिलबर एक सजीला चाँद

दबे पाँव आया था वो कुछ कहने मुझसे
बैठ गयी मैं देहरी पर देख रंगीला चाँद

मैंने भी तो घंटो कर ली बातें उससे
तुमको भी तो सुनता होगा एक अकेला चाँद

मैं ना कहती थी याद तुम्हें मैं आऊंगी
जब देखोगे आँगन में एक हठीला चाँद

– स्वाति सानी ‘रेशम’

Remember me!

There is this thing about being,
a fragile a song that we all sing.
And then darkness comes beckoning,
for death is certain for all those living.

Here I have  a request sincere,
when you are alone you must not fear.
So even when I am gone, my dear,
just look around and you will find me near.

You’ll find me in the pages that I write,
and in the poems that I recite.
In the sunshine bright,
and in the moonbeam at night.

It is possible that once in a while,
you will miss me half way through a mile.
But you must then think of me with a smile
and my life would be worthwhile.

या मुझे अफसरे शाहा न बनाया होता – ज़फर

Bahadur Shah Zafar, the last Mughal king was also a poet. Though his literary standing was not as high as as his Ustad (Mohd. Ibhrahim Zauk) or his contemporaries Ghalib and Momin; his writings are much respected and appreciated. Zafar was a king (though in British raaj his kingdom did not extend beyond the red fort) and a freedom fighter.

This ghazal is one of his finest works specially when you read it in context to India’s freedom struggle and a helpless (and impotent when it came to doing anything for his country and men) king’s sentiments.

या मुझे अफसरे शाहा न बनाया होता
या मेरा ताज गदाया न बनाया होता

खाकसारी के लिए गरचे बनाया था मुझे
काश संगे-दरे-जाना न बनाया होता

नशा-ए-इश्क का गर ज़र्फ दिया था मुझको
उम्र का तंग न पैमाना बनाया होता

रोज़ मामूरा-ए-दुनिया में खराबी है ‘जफर’
ऐसी बस्ती से तो वीराना बनाया होता

अफसरे शाहा – शहंशाह
गदाया – भीख में मिला हुआ
खाकसारी – नम्रता, politeness
संगे-दरे-जाना – महबूब के दरवाज़े का पत्थर
ज़र्फ – योग्यता
तंग -छोटा, पैमाना – नाप actual meaning of paimana is wine goblet
मामूरा – शहर

Catharsis

Sunset at Ambazari lake Oct, 1991
Sunset - October, 1991

A long time ago, there was a young girl, in love with a boy who said he loved her but can not marry her for reasons not known. The girl was sad, disappointed and angry at being rejected and knew she must learn to deal with it. It was one evening in the month of October she stood on the lakeside and wrote these words…

Continue reading Catharsis

Aasim’s poem on planets

Aasim’s Summer Holidays started from yesterday and as expected, the first day of staying home he got throughly bored -here’s a creative result of his boredom- he told me to write down (as he can’t write himself) a poem he made on planets

Mercury is the hottest planet
Venus is molten and very hot too
Earth is the third and we just live there
Mars has storms and no body can live there
Jupiter is medium temperature
Saturn is very little far from the sun
Uranus is cold planet and so is Neptune
Pluto is coldest planet and nobody can live there because they will freeze
Sedna is a very small planet
and Quaoar is a planetoid

P.S Aasim is 6.5 yrs old .